Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

प्रोटीन (PROTEINS)

प्रोटीन (PROTEINS)

प्रोटीन जटिल कार्बनिक नाइट्रोजनी यौगिक (Complex organic nitrogenous compounds) होती है | ये कार्बन, हाइड्रोजन, ऑक्सीजन तथा नाइट्रोजन एंव गन्धक से मिलकर बनी होती है | ये कार्बोहाइड्रेट एंव वसा से इसी बात में भिन्न है कि इनमें नाइट्रोजन होती है | एक वयस्क के शरीर के वजन का लगभग 20% भाग प्रोटीन का होता है |

प्रोटीन के कार्य-

  • प्रोटीन से शरीर को शक्ति उपलब्ध होती है | शरीर में पहुँचकर एक ग्राम प्रोटीन से 4 किलो कैलोरी ऊर्जा उत्पन्न होती है |
  • प्रोटीन से अंगों का निर्माण होता है और शरीर की वृद्धि होती है |
  • प्रोटीन उतकों की टूट –फूट की मरम्मत के लिए आवश्यक है |
  • प्रोटीन हिमोग्लोबिन, प्लाज्मा प्रोटीन, हार्मोन, एन्जाइम एवं एन्टीबॉडियों के निर्माण के लिए आवश्यक है | प्रोटीन प्राप्ति स्त्रोत के आधार पर
    निम्न दो प्रकार की होती है

1. जंतु प्रोटीन (Animal proteins):

इन्हे प्रथम श्रेणी की प्रोटीन भी कहा जाता है क्योकि इनमे स्वास्थ्य को बनाये रखने के लिए उचित अनुपात में सभी अत्यावश्यक अमीनो एसिड पाए जाते है और उनका पाचन आसानी से हो जाता है | जंतु उत्पादों जैसे दूध, अंडा, मांस तथा मछली आदि में पाया जाता है |

2.वनस्पति प्रोटीन (Vegetable proteins)

ये पेड़ – पौधों से प्राप्त होने वाली प्रोटीन होती है जो उड़द, अरहर, मूंग आदि की दलों में ; मूंगफली में, बादाम, काजू में, लोभिया, मटर, सेम तथा सोयाबीन (48%) आदि में पायी जाती है | इनके अतिरिक्त ये कार्बोहाइड्रेट के भोज्य पदार्थो जैसे आलुओं आदि में पायी जाती है | इन्हे द्धितीय श्रेणी की प्रोटीन कहा जाता है क्योकि इनमें सही अनुपात में सभी आवश्यक अमीनो एसिड नहीं पाए जाते और इनका पाचन भी आसानी से नहीं होती |

दैनिक आवश्यकता

एक सामान्य स्वास्थ्य वयस्क को प्रतिदिन भोजन में 80 से 100 ग्राम प्रोटीन लेना आवश्यक होता है | इसमें 50 ग्राम जंतु प्रोटीन (दूध, अंडे, मांस, मछली आदि से उपलब्ध ) होनी चाहिए |

भोजन में प्रोटीन की कमी होने पर-

  • कमजोरी आ जाती है |
  • अल्पप्रोटीनरक्तता (Hypoproteinemia) हो जाती है |
  • स्मृति दौर्बल्य हो जाता है |
  • जख्म देर से भरते है |
  • संक्रामक रोगों का आक्रमण हो जाता है |
  • बच्चों में क्वाशियोरकोर (Kwashiorkor) रोग हो जाता है |